Saturday, October 14, 2006

बरसी

ब्रश से उलझी हैं लटें,
मुझ से तुम्हारी याद भी,
बिंदी तुम्हारी आईने पर
-एक साल के बाद भी!

रात का सन्नाटा
पंखे की घरघराहट में कटता है,
अकेला मेरा मन-
बिस्तर के कोने में सिमटता है.

तुम्हारी पुकार के बजाय
अलार्म से सुबह चलती है,
अकेला टोस्ट जलता है,
अकेली कॉफ़ी उबलती है.

बिछड़े हैं हम एक साल से,
रूह मेरी तरसी है,
तुम्हारी यादों के संग बरखा,
तुम्हारी बरसी पर बरसी है...

-Yogesh.
(9th September, 2005)

1 comment:

Kishen said...

Kya kehne ki koi yaad to karta hai
Kya kehne ki koi kisi ke naam ka dam to bharta hai.
Aur kya kahe ki kabhi hamara koi humsaya hua hi nahi
Na nazare mile, Kambakht, koi dil mein samaya hi nahi

Toh tum to khush nasib huye, ki zindagi mein koi shamil toh hua
Aur mana, milna phir kuch pal ka hi sahi, yeh mitha ehsas toh hua
Har pal ka hisab, rahkte ho tum
Aur baras beet jane par, use barsi kehte ho tum

Har aahat tumhe wohi yaad dila jaati hai
Har yaad tumhari sasoon mein ghulmil jaati hai
Aur hamara yeh jina bhi kya jina hua
Jab saans lete hai, bas ek aah si nikal aati hai